देश

सावन में 5 साल से राम का गुणगान कर रहे राम भक्त के युवा

श्रावण मास को व्रत, आराधना, भक्ति का महीना माना जाता है। ग्राम कोथलकुण्ड में 5 साल से राम कथा गुणगान की परंपरा चल रही है। इस माह में बड़े बुजुर्गो ने वर्षों पहले शुरू की गई रामचरित्र पाठ की परंपरा को राम भक्त मंडल कोथलकुण्ड परिवार अब निर्वहन कर रहा हैं। शंकर मंदिर प्रांगण में संगीतमयी रामायण के पठन से प्रतिदिन गांव के लोगों को माह भर सत्संग करने का सौभाग्य मिला है। गोस्वामी तुलसीदास ने साफ स्पष्ट लिखा है निर्मल मन जन सो मोहि पावा, मोहि कपट छल छिद्र न भावा अर्थात कपट से छल से मोह से भगवान को पाया नहीं जा सकता। भगवान को पाने के लिए निश्छल प्रेम की जरूरत है। एक जयंत रुपी कौवे के छल और एक कागभुसुंडी रुपी कौआ की भक्ति का चित्रण किया गया है। सत्संग में प्रतिदिन राम भक्त मंडल के युवा प्रणय बाजपेयी,संजय बाजपेयी,अंकुर देशमुख, पवन बाथरी,मनीष इंचूलकर, गोपाल बाजपेई, रूद्र तिवारी, आयुष बाजपेई, आकाश राठौर, दीपक राठौर, सोनू वाटकर, कमलेश इंचूलकर,शुभम बाथरी, अभय वाटकर,ढोलक वादक विवेक धुर्वे ने सावन महीने में चल रही मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम की संगीत मय कथा जो शिव मंदिर प्रांगण में चल रही थी उसका बढ़े धूमधाम के साथ पूजा,अर्चना,आरती,कर समापन किया

पब्लिक टीवी संवाददाता**आशुतोष त्रिवेदी

पब्लिक टीवी लाइव 24x7

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also
Close
Back to top button