Breaking News

गर्मी के दिनों में सुखी पड़ी सुनार नदी में छापरी तक आया पानी, बड़ गया जलस्तर।।।।

0 0

गर्मी के दिनों में सुखी पड़ी सुनार नदी में छापरी तक आया पानी, बड़ गया जलस्तर।।।। धार जिले के भंवरकुंड डैम से सुनार नदी में छुड़वाया पानी।।।।तीन वर्षों से क्षेत्र की पेयजल समस्या को देखते हुए छापरी प्रधान दिनेश अमलियार की मांग व सांसद गुमानसिंह डामोर की पहल पर गर्मी के दिनों में सुनार नदी में आ रहा पानी।।।। 13 गांव के लोगों की जल समस्या का होगा निदान, ।।।। कालीदेवी।।। गर्मी के दिनों में सुखी पड़ी सुनार नदी में रविवार को ग्राम छापरी तक पानी आ गया जिससे कुओं, हेंडपंप, टयुबवेलो में भी जलस्तर बढ़ने लगा है वहीं पशु, पक्षियों, मवेशियों व लोगों की जल समस्या का निदान होगा सुनार नदी मे पानी नहीं होने पर छापरी प्रधान दिनेश अमलियार के साथ मंडल अध्यक्ष किशन भूरिया, कालीदेवी प्रधान लालसिंह गामोड़, मंडल महामंत्री करणसिंह अमलियार ने इस वर्ष 16 अप्रैल को सांसद गुमानसिंह डामोर को स्थिति से अवगत कराया व पानी छुड़वाने के लिए मांग की पहल करते हुए सांसद डामोर ने जन समस्या को देखते हुए धार जिले के जल संसाधन विभाग के अधिकारियों से चर्चा कर भंवरकुंड डेम से सुनार नदी में 18 अप्रैल को पानी छुड़वाया जो कि रविवार को छापरी तक पहुंचा जिससे सुनार नदी के आसपास के 13 गांवों के लोगों के साथ ही पशु, पक्षियों, मवेशियों की भी जल समस्या का निदान होगा गर्मी के दिनों में सुनार नदी में पानी छुड़वाने की पहली बार पहल 20 अप्रैल 2020 को की गई थी इसके पहले गर्मी के दिनों में सुनार नदी सुखी ही रहती थी सांसद डामोर ने धार जिले के भंवरकुंड डेम से सुनार नदी में पानी छुड़वा कर लोगों की समस्या का निदान शुरू किया था गत वर्ष भी गर्मी के दिनों में तीन बार डैम से पानी छोड़ा गया था लगातार तीसरे वर्ष छापरी सरपंच दिनेश अमलियार की मांग पर सांसद गुमान सिंह डामोर ने पहल करते हुए धार जिले के भंवरकुंड डेम से पानी छुड़वाया है इस संबंध में छापरी प्रधान दिनेश अमलियार ने बताया कि क्षैत्र की पेयजल समस्या को देखते हुए सांसद महोदय लगातार प्रयास कर रहे हैं यह तीसरा वर्ष है जब सांसद महोदय ने गर्मी के दिनों में सुखी पड़ी सुनार नदी में पानी छुड़वाया है ।।।।इन गांवों के लोगों व मवेशियों को होगा फायदा।।।। सुनार नदी के किनारे बसे गांव माछलिया, नवापाड़ा, भूराडाबरा, झिरनिया, राछवा, भंवरपिपलिया, सेमलखेड़ी, रामा, खेडली, कालीदेवी, छापरी, हात्यादेली, रूपारेल व तलावली गांव के लोगों व मवेशियों को इसका फायदा होगा गर्मी के दिनों में उन्हें पेयजल के लिए इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा।।।। फोटो संलग्न

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.