राजनीति

शिवसेना के अपने विधायकों के बीच व्याप्त असंतोष को नापने में शिवसेना की विफलता

शिवसेना के अपने विधायकों के बीच व्याप्त असंतोष को नापने में शिवसेना की विफलता ने पार्टी पर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की पकड़ पर भी सवाल खड़े कर दिए हैं। शिवसेना के विधायकों द्वारा दिखाए गए असंतोष ने राज्य के खुफिया विभाग (एसआईडी) की क्षमता पर भी सवालिया निशान खड़ा कर दिया है, जिसे महाराष्ट्र में राजनीतिक घटनाक्रम पर कड़ी नजर रखने के लिए रखा गया है। हालांकि, शीर्ष पुलिस अधिकारियों ने कहा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे कम से कम खुफिया ब्रीफिंग करते थे। सीएम कार्यालय ने इस आरोप से इनकार किया। अधिकारियों ने कहा कि नवंबर 2021 में दो सर्जरी और पोस्टऑपरेटिव रिकवरी जैसे कारणों ने उन्हें प्रशासनिक मशीनरी से दूर कर दिया था।

कई सालों तक राज्य खुफिया विभाग (एसआईडी) के आयुक्त और मुंबई पुलिस की विशेष शाखा -1 (एसबी -1) के अतिरिक्त आयुक्त ने हर सुबह मुख्यमंत्री को राज्य में होने वाली घटनाओं और घटनाक्रमों के बारे में जानकारी दी। एसआईडी आयुक्त राज्य में होने वाली घटनाओं की जानकारी देते हैं, एसबी -1 अतिरिक्त आयुक्त मुंबई शहर के घटनाक्रम पर नजर बनाए रखते हैं। द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक जब उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री के रूप में अपना कार्यकाल शुरू किया, तो वरिष्ठ अधिकारी उनसे मातोश्री में मिलने जाते थे और उन्हें हर दिन जानकारी देते थे। हालांकि, कुछ समय बाद, ब्रीफिंग में उनकी रुचि कम हो गई। एक शीर्ष पुलिस अधिकारी ने कहा, जब मार्च 2020 में कोविड महामारी ने पैर पसारा तो उद्धव ने संपर्क से बचना शुरू कर दिया। नवंबर 2021 में, उद्धव ने अपनी रीढ़ की सर्जरी करवाई और ठीक होने में चार महीने से अधिक का समय लगा। जिसकी वजह से भी वो कथित तौर पर पुलिस ब्रीफिंग से दूर रहे।

मुख्यमंत्री कार्यालय के एक प्रवक्ता ने इसका खंडन करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री को वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग या फोन पर खुफिया जानकारी मिली है। लेकिन इस दावे से उलट एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने इसका विरोध करते हुए कहा कि खुफिया ब्रीफिंग हमेशा आमने-सामने दी जाती थी और कभी फोन पर नहीं। उन्होंने कहा कि वे पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख, वर्तमान गृह मंत्री दिलीप वालसे पाटिल और यहां तक कि उपमुख्यमंत्री अजीत पवार को भी जानकारी देते थे। पिछले हफ्ते, एमएलसी चुनावों के बाद शिवसेना को पता भी नहीं चला कि शाम को क्रॉस वोटिंग हुई थी। हमने कुछ विधायकों को देखा, बाद में वे दोपहर में लापता हो गए। हमें लगा कि वे थक गए होंगे क्योंकि उन्हें पवई होटल में तीन दिनों तक छुपाया गया था। लेकिन जब हमें पता चला कि क्रॉस वोटिंग हो रही है तो हमने विधायकों की तलाश शुरू कर दी। हमने उद्धव को सतर्क किया और पुलिस ने उनके फोन ट्रैक करना शुरू कर दिया। हमने महसूस किया कि उनमें से कुछ गुजरात जा रहे थे। पुलिस या खुफिया विभाग को हमें सूचित करना चाहिए था, लेकिन ये कभी नहीं किया

पब्लिक टीवी लाइव 24x7

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button