मध्यप्रदेश

पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के कद्दावर नेता दिग्विजय सिंह अपने बयानों की वजह से हमेशा सुर्खियों में

भोपाल। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के कद्दावर नेता दिग्विजय सिंह अपने बयानों की वजह से हमेशा सुर्खियों में बने रहते हैं। ऐसे में उन्होंने एक बार फिर से विवादित टिप्पणी की है। जिसकी वजह से निकाय चुनावों के बीच मध्य प्रदेश की सियासत गर्मा गयी है। इसी बीच भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता और शिवराज सरकार में मंत्री विश्वास सारंग ने हमला बोला है। 

उन्होंने कहा कि इससे ज्यादा दुर्भाग्यपूर्ण और कुछ भी नहीं हो सकता है, जिन्होंने देश की आजादी के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर किया, वो सावरकर जी के लिए ऐसी बातें करना शर्मनाक ही नहीं बल्कि दुर्भाग्यपूर्ण भी है। दिग्विजय सिंह जी मीडिया की सुर्खियों में बने रहने के लिए ऐसे बयान देते हैं।

विश्वास सारंग ने कहा कि वीर सावरकर ने इस देश की आजादी के लिए जो कुछ भी किया, उसके लिए दिग्विजय सिंह जैसे छोटे लोगों की, जिनका मानसिक स्तर पूरी तरह से समाप्त हो चुका है, उनके सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि इस तरह की बातें और अनरगल प्रचार करके वो (दिग्विजय सिंह) केवल सावरगर जी का अपमान नहीं कर रहे बल्कि उन क्रांतिकारियों का अपमान कर रहे हैं, जिन्होंने देश के लिए अपना सबकुछ न्योछावर किया है। वीर सावरकर ने देश के लिए जो कुछ किया है उसके प्रति हम कृतज्ञता ज्ञापित करें, न की उन्हें बदनाम करने की कोशिश करें।

विश्वास सांरग ने कहा कि वीर सावरकर और उनके भाई काला पानी में रहकर इस देश की आजादी के लिए संघर्ष किया है। इसी बीच उन्होंने दिग्विजय सिंह को दो टके का आदमी बताते हुए कहा कि उन्हें शर्म आनी चाहिए। इस तरह की राजनीति करके वो 10 जनपथ में अपने नंबर बढ़ा लें। लेकिन देश की जनता इस तरह के बयानों में नहीं आने वाली है। वीर सावरकर का जीवन उत्कृष्ट रहा है और उनके क्रांतिकारी विचारों का अनुसरण देश का युवा करता है। 

दिग्विजय ने किया था विवादित ट्वीट

दिग्विजय सिंह ने वीर सावरकर को लेकर एक विवादित वीडियो शेयर किया था। जिसको लेकर घमासान मचा हुआ है और कांग्रेस ने भी दिग्विजय सिंह के इस बयान से किनारा कर लिया है। दरअसल, वीडियो में कथित तौर पर वीर सावरकर पर एक ब्रिटिश महिला के साथ दुष्कर्म करने की कोशिश करने का आरोप था।

पब्लिक टीवी लाइव 24x7

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button